यह फैसला इसलिए भी अहम है क्योंकि कई राज्यों के मुख्यमंत्री और बच्चों के माता-पिता लगातार सीबीएसई की परीक्षाओं को टालने की मांग कर रहे थे. उन्हें डर था कि अगर बच्चे परीक्षा हॉल में एक साथ बैठेंगे तो कोरोना की चपेट में आ सकते हैं.

1. CBSE Board Exams Updates: CBSE 10वीं की परीक्षा रद्द, 12वीं की टली, 10 प्वाइंट में समझें मोदी सरकार के इस फैसले के मायने

Feedback

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने देश भर में कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की 10वीं की परीक्षा रद्द कर दी है, जबकि 12वीं की परीक्षा को स्थगित करने का फैसला किया गया है. इस फैसले के ऐलान से पहले 14 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शिक्षा मंत्रालय (Education Ministry) व सीबीएसई के अधिकारियों के साथ बैठक की, जिसमें केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, केंद्रीय शिक्षा सचिव, प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव तथा अन्य शीर्ष अधिकारियों ने शिरकत की.

इस बैठक में यह तय किया गया कि 10वीं की परीक्षा को रद्द किया जाएगा और 12वीं की परीक्षा को फिलहाल स्थगित कर दिया जाएगा. यह फैसला इसलिए भी अहम है क्योंकि कई राज्यों के मुख्यमंत्री और बच्चों के माता-पिता लगातार सीबीएसई की परीक्षाओं को टालने की मांग कर रहे थे. उन्हें डर था कि अगर बच्चे परीक्षा हॉल में एक साथ बैठेंगे तो कोरोना की चपेट में आ सकते हैं. बैठक के बाद शिक्षा मंत्रालय ने एक बयान जारी कर परीक्षाओं के संबंध में लिए गए निर्णयों की जानकारी दी. आइए 10 बिंदुओं में समझते हैं सरकार के इस फैसले को...

1. सीबीएसई के मुताबिक 12वीं की परीक्षा का आयोजन 4 मई से 14 जून तक किया जाना था. लेकिन केंद्र सरकार ने 12वीं की परीक्षा को स्थगित कर दिया है. यानी अगले आदेश तक 12वीं की परीक्षा नहीं होंगी.

2. सरकार के इस फैसले के मुताबिक 12वीं के परीक्षा के लिए एक बार फिर 01 जून को रिव्यू बैठक होगी, जिसमें उस समय के कोरोना की स्थिति की समीक्षा के बाद परीक्षा को लेकर फैसला लिया जाएगा. यानी कुल मिलाकर 12वीं की परीक्षा कब होगी इसका फैसला 1 जून को होगा.

3. सरकार ने नोटिस जारी कर बताया कि 12वीं के छात्रों को हर हाल में परीक्षा से 15 दिन पहले उसके बारे में बताया जाएगा, ताकि वो परीक्षा के लिए तैयार हो सकें. यानी परीक्षा की शुरुआत से कम से कम 15 दिन पहले छात्रों को इसकी सूचना दी जाएगी.

4. इससे पहले सीबीएसई ने 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर डेटशीट और परिणामों की घोषणा की डेट का भी ऐलान कर दिया था, जिसके मुताबिक ये परीक्षाएं 4 मई से लेकर 10 जून के बीच होनी थीं और 15 जुलाई तक रिजल्ट घोषित किया जाना था.

5. सरकार ने सीबीएसई बोर्ड 10वीं की परीक्षा को भी रद्द कर दिया है. सरकार द्वारा जारी बयान में कहा गया, '4 मई से 14 जून तक आयोजित होने वाली 10वीं की परीक्षा रद्द कर दी गई हैं. इसके परिणाम बोर्ड द्वारा तैयार किए गए एक मानदंड के आधार पर तैयार किए जाएंगे.'

6. यह पहली बार है जब 10वीं की बोर्ड परीक्षा पूरी तरह से रद्द कर दी गई है. केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ने 10वीं की परीक्षा को लेकर कहा, '10वीं क्लास के छात्रों को आतंरिक मूल्यांकन के आधार पर अगली क्लास में भेजा जाएगा.'

7. 10वीं के छात्रों के लिए छोटे सवालों के आधार पर उनके अंकों का मूल्यांकन किया जाएगा. मूल्यांकन के तरीके को लेकर सरकार की ओर से कहा गया कि सीबीएसई इसके लिए मापदंड निर्धारित करेगी. 

8. बयान के मुताबिक यदि कोई छात्र उसे मिले अंकों से संतुष्ट नहीं होता है तो उसे परीक्षा में बैठने का एक मौका दिया जाएगा लेकिन यह तभी होगा जब परिस्थितियां परीक्षा के आयोजन के अनुकूल होंगी.

9. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सहित कई नेताओं ने कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते खतरों के मद्देनजर सीबीएसई परीक्षाओं को रद्द करने की मांग की थी.

10. बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने की वजह लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले हैं. बता दें कि देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1.84 लाख से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं. इस महामारी के खतरे को देखते हुए पहले ही महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश की राज्य सरकारें बोर्ड की परीक्षाओं को रदद् कर चुकी हैं.

10वीं और 12वीं की परीक्षाओं को लेकर केंद्र सरकार के फैसले पर दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, 'मुझे खुशी है कि 10वीं की परीक्षा रद्द की गई हैं और 12वीं की परीक्षा ​स्थगित की गई है. 12वीं कक्षा के बच्चों के मन में जो चिंता बनी रहेगी उसको दूर किया जा सकता था. मैं अपील करता हूं कि 12वीं कक्षा के छात्रों को भी आतंरिक मूल्यांकन के आधार पर प्रमोट किया जाए.'