गुजरात के सूरत में कोरोना ने कोहराम मचा रखा है. एक ओर जहां श्मशानों में मृतकों के शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए कतार लगी हैं, वहीं, कब्रिस्तानों की भी ऐसी तस्वीर सामने आई है जिसे देख लोग सकते में आ गए. दरअसल, कोरोना के कहर को देखते हुए कब्रिस्तानों में एडवांस में कब्रों की खुदाई की जा रही है. 

1. Corona: गुजरात में एडवांस में की जा रही कब्रों की खुदाई, मजदूर नहीं तो लगाई JCB

Feedback

गुजरात के सूरत में कोरोना ने कोहराम मचा रखा है. एक ओर जहां श्मशानों में मृतकों के शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए कतार लगी हैं, वहीं, कब्रिस्तानों की भी ऐसी तस्वीर सामने आई है जिसे देख लोग सकते में आ गए. दरअसल, कोरोना के कहर को देखते हुए कब्रिस्तानों में एडवांस में कब्रों की खुदाई की जा रही है. 

कब्रों की खुदाई करने के लिए मजदूरों की कमी पड़ने पर जेसीबी मशीन लगाई गई है. देश भर में कोरोना का जिन शहरों पर सबसे ज्यादा प्रकोप है उसमें गुजरात का सूरत शहर भी शामिल है. सूरत का आलम यह है कि यहां के अस्पतालों में बेड-वेंटिलेटर की भारी कमी है. 

यही नहीं, जीवनरक्षक दवा रेमेडिसिवीर इंजेक्शन के लिए परिजनों की लंबी कतारें हैं और श्मशानों में शव के अग्निदाह के लिए 10 से 12 घंटे की वेटिंग है. यह तस्वीर सिर्फ सूरत के श्मशानों का ही नहीं है बल्कि शहर के कब्रिस्तानों में भी ऐसा ही कुछ मंजर दिखाई दे रहा है.

जानकारी के मुताबिक, सूरत के रामपुरा में स्थित कब्रिस्तान में जहां सामान्य तौर पर 2 से 3 शव आते थे. आज वहां 10 से 12 शव रोज आ रहे हैं. कब्रिस्तानों के संचालकों की मानें तो एक कब्र खोदने में 6 से 7 घंटे लग जाते हैं, इसलिए कब्रों की एडवांस में खुदाई करवा रहे हैं.

इतना ही नहीं कब्र की खुदाई के लिए आदमी कम पड़े तो जेसीबी से कब्र खुदवाई जा रहा है.  कब्रिस्तान प्रबंधक मोहम्मद आसिफ का कहना है कि लगातार शवों में इजाफा होने पर ये कदम उठाया गया है. कोरोना काल में मजदूर न मिलने से जेसीबी मशीन लगाई गई है.

Copyright © 2021 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today