पश्चिम बंगाल (West Bengal) में अगले साल विधान सभा चुनाव होने हैं. लेकिन उससे पहले ही तृणमूल कांग्रेस सरकार में सिर फुटव्वल तेज हो गई है.

1. चुनाव से पहले TMC में गुटबाजी तेज, इस मंत्री ने अपनी सरकार पर साधा निशाना

हल्दिया (प बंगाल): पश्चिम बंगाल (West Bengal) में अगले साल विधान सभा चुनाव होने हैं. लेकिन उससे पहले ही तृणमूल कांग्रेस सरकार में सिर फुटव्वल तेज हो गई है. प्रदेश सरकार के मंत्री शुभेंदु अधिकारी (Shubhendu Adhikari) ने अपनी ही सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि उनका न किसी ने चयन किया और न उन्हें नामित किया. वे अपनी मेहनत से मंत्री पद तक पहुंचे हैं. 

ममता सरकार में वरिष्ठ मंत्री हैं शुभेंदु अधिकारी
बता दें कि शुभेंदु अधिकारी सत्तारूढ़ ममता सरकार में वरिष्ठ मंत्री हैं. राज्य के मिदनापुर और जनजातीय क्षेत्र जंगलमहल में तृणमूल के सबसे प्रभावशाली नेताओं में से एक हैं. लेकिन पिछले कुछ समय से उनकी पार्टी के साथ नाराजगी की खबरें बाहर आ रही हैं. इसी के चलते वे तृणमूल कांग्रेस और राज्य मंत्रिमंडल से दूरी बनाकर चल रहे हैं.

मैं चयनित या नामित नेता नहीं हूं- शुभेंदु अधिकारी

उन्होंने बुधवार को हल्दिया में एक सहकारी समिति की ओर से आयोजित कार्यक्रम में कहा कि 'मैं कड़ी मेहनत से ऊंचाई तक पहुंचा हूं. मैं निर्वाचित नेता हूं. मैं चयनित या नामित नेता नहीं हूं.' उनका यह बयान सहकारी समिति में अध्यक्ष निर्वाचित होने के बाद सामने आया. माना जा रहा है कि ऐसा करके शुभेंदु अधिकारी पार्टी के नीति नियंताओं पर निशाना साधा है. 

पार्टी के कई नेताओं को पसंद नहीं आया बयान
उधर पार्टी के कई नेताओं ने उनके इस बयान को गलत बताया है. पार्टी में बहुत से लोगों का मानना है कि उनका यह बयान तृणमूल के एक वरिष्ठ नेता और सांसद को लक्षित था. पूर्वी मिदनापुर के तृणमूल नेता अखिल गिरी ने कहा कि शुभेंदु अधिकारी को बताना चाहिए कि वह किसके बारे में बात कर रहे हैं.